Love Poem In Hindi

love poem in hindi

Love Poem In Hindi

Love poem in Hindi by our Guest writer Manish Pandey. A very wonderful poem.

ये जो तेरी कातिल आंखो का इशारा है,
ऐसा लगता है , ये इशारा मेरे बुढ़ापे का सहारा है।।

जब तू चलती है तो तेरे पैरों से छन छन आवाज आती है,
ऐसा लगता हैं की, मेरे दिल में बसंत की बहार आती है।।

जब तेरे हाथो की चूड़ियां बजती है खन खन,
ऐसा लगता है की, क्यों घायल हो रहा है मेरा मन ।।

तेरी लहराती जुल्फे मेरे दिमाग में कर रही है साज़िश,
ऐसा लगता है की , बिन मौसम हो रही है बारिश ।।

देखकर ऐसा लगता नहीं की विधाता ने तुझे बनाया होगा,
तुझे बनानेवाले के पास इतना वक्त कहा से आया होगा ।।

तेरे लबों पर हंसी देखकर मुझे एक खयाल आया है ,
ऐसा लगता हैं की, तेरे प्यार का इज़हार मेरे पास आया है ।।

When everyone is locked down in their homes. Let us find some time to resolve the disputes between us. Let us find some reason to bring back that charm in our life. This poem is dedicated for all the couples.

Love Poems You May Like To Read

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *