Poem On Dreams In Hindi

poem on dreams in hindi

Poem On Dreams In Hindi

Poem On Dreams In Hindi by our guest writer Mrs. Hemangi Sharma.

एक डिब्बी ख्वाब की मैने खोल दी है,
अरमानों की तितली तिलमिला रही थी,
चूपके से आ कर मेरे कंधे पर बैठ गई,
आहिस्ता आहिस्ता उसे संवारने लगी तो हकीकत के पांव के पर फूटने लगे,
यहां वहां मुझे दौडाने लगी,
उस डिब्बी के कौने में एक सूनहरा ख्वाब मेरी ओर तांकजाक कर रहा था,
शायद उसे मेरी गोद में सोना था,
मैं सहसा गभराई,शरमाई ,
कैसे उस सूनहरे ख्वाब को गोद में सूलाउं?
हकीकत के पैर पर आंखे भी तो लगी थी,
जो मेरे अरमानो की डिब्बी को बंध होते देखना चाहती थी,
और मैं बावरी और एक ख्वाब बून रही थी.
हेमांगी

Dreams..!! A word that everyone is aware of. Every one has some or the other dreams. But, yes, we see a dream. Some are achievable and some are not achievable. But, still we do not stop dreaming. The author has beautifully described the word “Dream” and one such scenario which we can connect with our day to day lives. So do dream and never get upset if that does not get fulfilled. We can always see a new dream and work to achieve it.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *